HindiTreasure.com

राजू श्रीवास्तव का 58 वर्ष की आयु में निधन। पाकिस्तान से मिली थी जान से मरने की धमकी।

राजू श्रीवास्तव का 58 वर्ष की आयु में निधन। पाकिस्तान से मिली थी जान से मरने की धमकी।

राजू श्रीवास्तव का 58 वर्ष की आयु में निधन। पाकिस्तान से मिली थी जान से मरने की धमकी।

बात दें की राजू श्रीवास्तव को अगस्त में हार्ट अटैक आया था जिसकी वजह से वह बहुत समय से अस्पताल मे भर्ती थे एवं उनकी तबीयत इतनी खराब थी की उन्हे वेनतिलेटर पर रखा हुआ था।

राजू को बहुत समय से बुखार भी आ रहा था एवं उनकी तबीयत मे सुधार भी बहुत धीरे या यह कहें की न के बराबर हो रहा था। इतना ही नहीं राजू ठीक से बात भी नहीं कर पा रहे थे। हालांकि की इस तरह के समाचार भी इंटरनेट पर पढ़ने को मिले की उनकी तबीयत मे सुधार हो रहा है, उनकी पत्नी ने उनसे बात की, बेटी से भी उनकी बात हुई।

राजू श्रीवास्तव के बारे में

राजू 58 वर्ष के थे एवं उनका जन्म क्रिसमस के दिन यानि के 25 दिसम्बर को हुआ था एवं जन्म का वर्ष 1963 था। उन्होंने अपने जीवन काल मे काला के क्षेत्र मे बहुत अच्छा किया है या यह कहें की अभिनय के क्षेत्र मे बहुत अच्छा किया है। उन्होंने कई फिल्मों मे छोटे मोठे रोल अभिनय क्या है जैसे तेजाब, बाज़ीगर, मे प्रेम की दीवानी हूँ, आदि फिल्मों मे उन्होंने काम किया है।

The Great Indian Laughter Challenge – Champions” नाम के टीवी शो मे इन्हें “The King of Comedy” का खिताब प्राप्त हुआ था।

राजू श्रीवास्तव के परिवार के बारे में

राजू श्रीवास्तव पे परिवार मे 2 बच्चे एवं पत्नी थी। उनकी शादी शिखा श्रीवास्तव से वर्ष 1993 मे हुई थी एवं पत्नी लखनऊ से थीं। मूल रूप से राजू भी उत्तर प्रदेश के थे।

राजू श्रीवास्तव को पाकिस्तान से मिली थी जान से मरने की धमकी।

राजू श्रीवास्तव जब प्रसिद्ध हुए थे उन्हे बहुत से टीवी शो पर बुलाया जाने लगा। उन्होंने बहुत अच्छा नाम किया एवं कॉमेडी भी। उन्होंने कोई शो पर पाकिस्तान के ऊपर जोक्स क्रैक कीये एवं Dawood Ibrahim के ऊपर भी कई जोक्स क्रैक कीये जिस पर बहुत लोगों ने इन्जॉय कीये।

जब यह बात पाकिस्तान मे पता चली तो राजू के पास जान से मारने की धमकी मिलने लगी। इसकी शिकायत उन्होंने पुलिस मे कारवाई थी लेकिन बाद मे सबकुछ शांत हो गया एवं उन्हें धमकी भरे मैसेज एवं calls आना बंद हो गए।

राजू श्रीवास्तव के राजनीतिक जीवन

राजू वर्ष 2014 मे समाजवादी दल से लोकसभा चुनाव के लिए जुड़े। परंतु कुछ ही महीनों मे उन्होंने समाजवादी पार्टी का साथ छोड़, बीजेपी का साथ चुना। इस पर उन्होंने यह कहा था की उन्हे उचित सपोर्ट नहीं दिया जा रहा था।

श्री नरेंद्र मोदी ने स्वच्छ भारत अभियान के लिए दी थी जिम्मेदारी। इसके बाद उन्होंने कई शहर में ईवेंट किए एवं साफ-सफाई के बारे मे लोगों के जागरूक किया।