HindiTreasure.com

content writing in different language

Hindi vs Hinglish vs English किस भाषा में लिखे?

Mobile se youtube channel kaise banaye 2022 | YouTube channel kaise create karen

चलिए दोस्तों जानते हैं कि आर्टिकल हमें किस भाषा में लिखना चाहिए। दोस्तों यह article उन लोगों के लिए है जो या तो खुद एक website के मालिक हैं या उनके पास blog है या वह आर्टिकल लिखते हैं खुद की वेबसाइट पर या फिर किसी और की वेबसाइट पर।

आपको जिस भाषा में कंटेंट लिखना है वह आपको आनी चाहिए बहुत सारे लोग हिंदी भाषा मैं लिखना पसंद करते हैं तो कुछ लोग Hinglish भाषा का उपयोग करते हैंऔर कुछ लोग तो English भाषा में भी लिखते हैं। इस लेख में हम जानेंगे कि आपको किस भाषा में लिखना चाहिए और क्यों।

English भाषा में लिखे।

दोस्तों अगर आपकी वेबसाइट अंग्रेजी भाषा में है तो मैं आपको पूर्ण रुप से कहूंगा कि आप अंग्रेजी में ही लिखे अगर आप उसमें किसी अन्य भाषा का मिश्रण करते हैं तो उससे आपके विजिटर का अनुभव खराब हो सकता है।

इसमें कोई दो राय नहीं है कि अगर आपकी भाषा इंग्लिश है और आप पूरी तरह से वेबसाइट पर इंग्लिश लिख रहे हैं या इंग्लिश में आर्टिकल लिखते हैं तो आपकी वेबसाइट पूर्ण रुप से अच्छी चलेगी इसलिए इंग्लिश में है तो पूरी तरीके से इंग्लिश में ही रखें। कहने का मतलब आप के विजिटर का अनुभव खराब नहीं होना चाहिए।

हिंदी भाषा में लिखे।

दोस्तों! Google webmaster का एक वीडियो YouTube पर आया जिसमें यह बताया गया है कि अगर आपको आपकी यूजर चाहिए तो उसके लिए वह जो भाषा पसंद करते हैं उसी भाषा में लिखे जैसे हिंदी या इंग्लिश या Hinglish.

दोस्तों हिंदी भाषा देवनागरी लिपि है इसके अलावा भारत, नेपाल, बांग्लादेश, पाकिस्तान एवं अन्य वह देश जहां पर हिंदी बोलने वाले लोग मौजूद हैं आपकी वेबसाइट को पढ़ सकते हैं या आपके reader बन सकते हैं या हो सकते हैं इसलिए अगर आप हिंदी भाषा का प्रयोग कर रहे हैं अपनी वेबसाइट पर तो आपको कहना चाहूंगा कि आप पूर्ण रुप से हिंदी भाषा में ही लिखे एवं अंग्रेजी भाषा का इस्तेमाल न करें और अगर करना भी चाहे तो कुछ शब्दों में कर सकते हैं जैसे मेरे इस लेख में आपको मिल सकते हैं।

Hinglish language me likhe.

आज की तारीख में अगर हम देखते हैं तो हम पाएंगे की ऐसी वेबसाइट भी मौजूद है जो इंग्लिश भाषा का इस्तेमाल करते हुए हिंदी में लिख रहे हैं उदाहरण के लिए mera naam nitin hai aur mai yah article likh raha hu.

जैसा की मैंने ऊपर लिखा है “मेरा नाम नितिन है और मैं यह आर्टिकल लिख रहा हूं”।

तीनों भाषाओं में लिखना आसान है और आप लिख सकते हैं Google आपको कभी यह नहीं कहता है कि आपको हिंदी भाषा में लिखना है या इंग्लिश भाषा में लिखना है। Google आपको यह कहता है कि विजिटर/यूजर, जो आपकी वेबसाइट पर आते हैं, उनका अनुभव अच्छा होना चाहिए।

content writing in different language

क्या भाषा का कोई फर्क पड़ता है?

मित्रों! सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन पर इस बात का कोई फर्क नहीं पड़ता है अगर आप हिंदी में सर्च करते हैं और उससे संबंधित कोई लेख किसी वेबसाइट पर नहीं है लेकिन वह इंग्लिश में उपलब्ध है तो आपके सामने आएगा। इसी प्रकार अगर इंग्लिश में सर्च करते हैं तो यह भी हो सकता है कि हिंदी कंटेंट आपके सामने आ जाए या उसकी लिंक आ जाए Google search engine पर।

दोस्तों पूरी बात निर्भर करती है कंटेंट के ऊपर की आप क्या लिख रहे हैं और कैसे लिख रहे हैं। इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि हिंदी है या इंग्लिश या Hinglish. फर्क इस बात से पड़ता है कि आपका जो कंटेंट है या लेख है वह उच्च गुणवत्ता वाला होना चाहिए या फिर अच्छा यूनिक होना चाहिए।

इस बात पर Google Webmaster team क्या बोलती है?

यह लेख नीचे दिए वीडियो के आधार पर बनाया गया है आपको बताना चाहूंगा कि अगर आप जिस भाषा में भी अपना कंटेंट लिखना चाहते हैं लिख सकते हैं बस कहने का तात्पर्य यह है कि आपका जो विजिटर का एक्सपीरियंस है वह अच्छा होना चाहिए।

क्या गूगल हिंदी और हिंग्लिश को एक समान मानता है?

वेबसाइट की रैंकिंग या SEO effect.

जिस भाषा में आप लिखते हैं उस बात का अंदाजा लगाइए कि वह कितने लोग जानते हैं उसी हिसाब से आपके विजिटर भी हो सकते हैं और इसके अलावा आपकी कंटेंट के ऊपर भी निर्भर होता है कि आप कितना यूनिक, अच्छा और नया कंटेंट लिखते हैं।

उदाहरण के लिए अंग्रेजी भाषा। अंग्रेजी मैं इंटरनेट पर सबसे ज्यादा सर्च करने वाली भाषा है यहां तक कि भारत में भी इसके यूज़र्स बहुत ज्यादा है इसके अलावा स्पेनिश, चाइनीस, हिंदी, उर्दू आदि में भी सर्च आती है।

अंग्रेजी भाषा में अगर आप लिख रहे हैं तो continue रखिए। अगर आप हिंदी भाषा में लिख रहे हैं तो हिंदी के भी यूजर्स बहुत ज्यादा है और आने वाले समय में हिंदी के यूजर्स बढ़ेंगे यह बात भी बिल्कुल सही है दोस्तों। हिंदी जानने वाले जैसा की मैंने ऊपर बताया कि हमारे देश के अलावा पड़ोसी देश भी हैं इसके अलावा वह देश जहां अंग्रेजी बोली जाती है लेकिन ऐसे लोग, जिनको हिंदी आती है है। हिंदी भाषा को आप कमजोर न समझे।

बेहतर एसईओ के लिए URL कैसे लिखे?

नीचे कुछ उदाहरण देखें जो 3 भाषाओं में हिंदी, इंग्लिश एवं इंग्लिश।

  1. http://hinditreasure.com/सॉफ्टवेयर-इंजीनियर-कैसे/
  2. http://hinditreasure.com/software-kya-hai-kaise-banaye/
  3. http://hinditreasure.com/kfc-full-form-name-meaning/

उदाहरण के लिए तीन URL ऊपर दिए हुए हैं, और देख पा रहे हैं कि पहले में हिंदी, दूसरे में Hinglish, तीसरे में इंग्लिश भाषा में URL लिखे हुए हो।

इस बात में मैं आपको सिर्फ इतनी सी बात बताना चाहूंगा कि आप हिंदी, Hinglish या इंग्लिश में लिख सकते हैं लेकिन वह कंटेंट से जुड़ा हुआ होना चाहिए।

Join 1,474 other subscribers

इन्हें भी पढ़ें।

how to add meta tags on Blogger based blog for good SEO
Yoast SetUp in Hindi

One response to “Hindi vs Hinglish vs English किस भाषा में लिखे?”

  1. Keyanna Avatar
    Keyanna

    That’s cleared my thoughts. Thanks for cognributint.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *